खेलगुड मॉर्निंग न्यूज़टॉप न्यूज़
Trending

केएल राहुल पर क्यों भिड़े हैं वेंकटेश प्रसाद और आकाश चोपड़ा

ऑस्ट्रेलिया के साथ जारी टेस्ट सिरीज़ में भारत के सलामी बल्लेबाज़ केएल राहुल के बल्ले की 'ख़ामोशी' से सोशल मीडिया पर हलचल बढ़ गई है.

केएल राहुल के लगातार जारी ख़राब परफ़ॉर्मेंस ने पूर्व क्रिकेटर वेंकटेश प्रसाद और आकाश चोपड़ा के बीच ‘ट्विटर वॉर’ छेड़ दी है. दोनों लगातार ट्विटर पर ट्रेंड भी कर रहे हैं.

दरअसल, चार मैचों की बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफ़ी के पहले दो मुक़ाबलों में भारत ने जीत हासिल की, लेकिन केएल राहुल हर पारी में सस्ते में निपटे. बचे हुए दो मैचों में केएल राहुल से उपकप्तानी वापस लेना भी इसी का नतीजा माना जा रहा है.

ख़राब प्रदर्शन के बावजूद टीम में लगातार केएल राहुल को जगह मिलने पर सवाल उठ रहे हैं और सवाल उठाने वालों में पूर्व गेंदबाज़ वेंकटेश प्रसाद भी शामिल हैं.

हालांकि, कमेंटेटर और पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने अपने यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो शेयर किया जिसमें उन्होंने केएल राहुल के प्रदर्शन को बाकियों की तुलना में बेहतर बताते हुए वेंकटेश प्रसाद की टिप्पणियों को ही सवालों के घेरे में ला दिया.

केएल राहुल पर सवाल

आख़िर में वेंकटेश प्रसाद ने ये भी कहा कि आकाश चोपड़ा और उनके बीच कोई खटास नहीं है. वो अपने यूट्यूब चैनल पर जितनी मेहनत झोंक रहे हैं, वो सराहनीय है, लेकिन अलग मत को सिर्फ़ इसलिए एजेंडा बताना क्योंकि ये उनके नैरेटिव से मेल नहीं ख़ाता, बुरा है.

वेंकटेश प्रसाद लगातार केएल राहुल की टीम में जगह को लेकर सवाल खड़े करते आ रहे हैं. उन्होंने ये भी कहा कि आठ साल से ज़्यादा के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में 46 टेस्ट मैचों के दौरान 34 का औसत साधारण है. उन्होंने ये भी कहा कि टीम में शायद ही इतने मौके किसी को मिले होंगे जितने केएल राहुल को दिए गए हैं.

दूसरा टेस्ट जारी था और तब वेंकटेश प्रसाद ने लिखा कि ”टीम प्रबंधन इस पर ध्यान नहीं दे रहा, लेकिन कम से कम पिछले 20 सालों में किसी भी टॉप ऑर्डर बल्लेबाज़ ने इतने कम औसत के साथ इतने सारे टेस्ट मैच नहीं खेले होंगे.”

वेंकटेश ने ये भी कहा कि केएल राहुल को टीम में रखना जान-बूझ कर प्रतिभावान खिलाड़ियों को जगह न देने जैसा है.

उन्होंने ये कहा कि शिखर धवन का टेस्ट मैचों में औसत 40 का है, मयंक का 41 से अधिक, शुभमन गिल शानदार फ़ॉर्म में हैं, सरफ़राज़ जैसी बहुत-सी घरेलू प्रतिभाओं को नज़रअंदाज़ किया जा रहा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
×

Powered by WhatsApp Chat

×